विधानसभा सत्र : दो साल में छत्तीसगढ़ सरकार ने आरबीआई से लिया 36 हजार करोड़ का कर्ज

रायपुर। छत्तीसगढ़ में विधानसभा सत्र की शुरुआत हो चुकी है। सत्र में शुरुआत से वाद-विवाद का दौर शुरू हो चूका है। इसी कड़ी में भाजपा से शिवरतन शर्मा ने कांग्रेस से पूछा कि दिसंबर 2018 से जनवरी 2021 तक राज्य सरकार के कितना-कितना ऋण किस-किस एजेंसी से कब-कब लिए? इस सवाल पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जवाब देते हुए पूरा डिटेल बताया। उन्होंने कहा- छत्तीसगढ़ सरकार ने बीते दो सालों के दौरान भारतीय रिजर्व बैंक के माध्यम से बाजार ऋण, नाबार्ड की ग्रामीण अधोसंरचना विकास निधि, केन्द्र सरकार के माध्यम से जीएसटी ऋण और एशियन डेवलपमेंट/विश्व बैंक से कुल 36,170 करोड़ ऋण लिया है। बीजेपी विधायक शिवरतन शर्मा ने पूछा राजस्व व्यय और पूँजीगत व्यय कितना किया गया? इस पर भूपेश बघेल ने कहा कि यह बता पाना मुमकिन नहीं है। सरकार जरूरत के हिसाब से राशि खर्च करती है। शिवरतन शर्मा ने इस पर पूछा कि राज्य सरकार के कर्ज लेने की अधिकतम सीमा क्या है? भूपेश बघेल ने कहा कि जीएसडीपी का 25 फीसदी तक कर्ज लिया जा सकता है। राज्य सरकार ने अभी 20 फीसदी तक कर्ज लिया है।