डकैती के 48 घंटे के बाद भी पुलिस के हाथ खाली, दिनदहाड़े नकाबपोश डकैतो ने दिया था घटना को अंजाम

बिलासपुर। मस्तूरी थाना के लिमतरा में दिनदहाड़े डकैती हो गई थी। डकैती के बाद 48 घंटे बीत जाने के बाद भी पुलिस के हाथ अब तक खाली है। पुलिस सीसीटीवी फुटेज और क्षेत्रीय भाषा के आधार पर इसे लोकल गैंग की घटना को अंजाम देने की बात कह रही है और परिवार सहित परिचितों के बयान के आधार पर जांच करने की बात कह रही है।

बिलासपुर में कांग्रेस नेता टाकेश्वर पाटले के घर डकैती के मामले में 48 घंटे बाद भी पुलिस के हांथ खाली हैं। पुलिस आरोपियों तक नहीं पहुंच सकी है। यही नहीं पुलिस को अब तक आरोपियों का कोई ठोस सुराग भी नहीं मिला है। पुलिस के हांथ लगे एक संभावित सीसीटीवी फूटेज के आधार पर आरोपियों को ट्रेकडाउन करने का प्रयास किया जा रहा है। हालंकि,घटना के जांच के लिए 10 अलग - अलग टीमें लगाई गई हैं। जो क्राइम सीन के आधार पर अलग अलग पहलुओं पर जांच कर रही है। इसमें आस पास के क्षेत्रों में लगे सीसीटीवी, मोबाइल टॉवर डंप सहित स्थानीय स्तर पर कांग्रेस नेता टाकेश्वर पाटले के कामकाज से जुड़े लोगों व पुराने विवादो के आधार पर भी सुराग तलाशा जा रहा है। हालंकि, सीसीटीवी फूटेज के आधार पर एक क्लू पुलिस के हांथ लगा है। जिसमें जांजगीर के कोटमी सोनार तक संदेही बाइक सवारों के जाने की आशंका जताई जा रही है। हालंकि, पुलिस की ये जांच अभी प्राइमरी स्टेज पर है। सॉलिड एविडेंश का पुलिस को अभी भी इंतजार है। जिले की एसपी पारुल माथुर ने बताया कि, वारदात में किसी बाहरी हार्डकोर गिरोह के शामिल होने की संभावना कम है। बावजूद पुलिस हर एंगल पर जांच कर रही है। फिलहाल सीसीटीवी और मोबाइल टावर डंप के जरिए आरोपियों के पतासाजी का प्रयास किया जा रहा है।