इंसानियत हुई शर्मसार, आईसीयू बेड के लिए नर्स ने कोविड मरीज से मांगी 1.30 लाख की रिश्वत, एसीबी ने पकड़ा

जयपुर। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण लोगों को अस्पताल में बेड, ऑक्सीजन और दवाईयों की किल्लत हो रही है। इन चीजों की कालाबाजारी भी देश में धड़ल्ले से हो रही है। लोग मुनाफा कमाने के लिए इंसानियत तक को बेच दे रहे हैं। मामला जयपुर के एक निजी अस्पताल का है । राजस्थान के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने  एक पुरुष नर्स को कोविड मरीज के लिए आईसीयू बेड की व्यवस्था करने के लिए रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है। आरोपी की पहचान अशोक कुमार गुर्जर के रूप में हुई है। अशोक जयपुर के मेट्रो मास अस्पताल में एक नर्स के रूप में काम करता है। एसीबी के डीजीपी बीएल सोनी के अनुसार,आरोपी ने राजस्थान यूनिवर्सिटा ऑफ हेल्थ साइंसेज में आईसीयू बेड और अन्य सुविधाओं के लिए  कोविड मरीज के परिवार से 1.30 लाख रुपए की मांग की थी। डीजीपी ने कहा कि गुर्जर ने शिकायतकर्ता से 95,000 रुपए पहले ही ले चुका था।

पुलिस ने कहा कि हमने मामले में की गई शिकायत की जांच की और गुर्जर को 23,000  रुपए रिश्वत की किस्त लेते हुए गिरफ्तार किया गया। आरोपी पर भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है और मामले की जांच की जा रही है। एक अन्य मामले में 1 मई को दिल्ली के नजफगढ़ के एक निजी अस्पताल में काम करने वाली 25 वर्षीय नर्स को रेमेडीसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी के आरोप में गिरफ्तार किया था । वह अपने एक अन्य साथी के साथ मिलकर इस काम को अंजाम देती थी ।