2018 के तमिलनाडु ट्रिपल मर्डर कांड में 27 दोषियों को मिली उम्रकैद की सजा

शिवगंगा/रायपुर। तमिलनाडु के शिवगंगा के कचनाथम गांव में 2018 में दलित पुरुषों की ट्रिपल मर्डर के मामले में एक अदालत ने शुक्रवार को 27 दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई। पीड़ितों को एक मंदिर उत्सव में सम्मान देने से संबंधित झगड़े में मौत के घाट उतार दिया गया था। विशेष रूप से, पांच और दलित लोग घायल हुए थे, जिनमें से एक की डेढ़ साल बाद मृत्यु हो गई थी। शिवगंगा जिले के तिरुप्पचेट्टी के पास 28 मई, 2018 की रात को कचनंथम गांव के अनुसूचित जाति समुदाय के तीन लोगों के अरुमुगम (65), ए. णमुगनाथन (31), और वी. चंद्रशेखर (34) की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। मंदिर में आयोजित एक समारोह में सम्मान देने को लेकर हुए विवाद के बाद इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया था। शिवगंगा में SC/ST (POA) अधिनियम के तहत मामलों की विशेष सुनवाई करने वाली अदालत ने सजा सुनाई। अदालत के न्यायाधीश मुथुकुमारन ने 1 अगस्त, 2022 को इस हत्याकांड में 27 आरोपियों को दोषी ठहराया था. सजा का ऐलान 5 अगस्त को हुआ।