Video : एसईसीएल में नौकरी लगाने का झांसा, 9 साल बाद की शिकायत, आरोपी गिरफ्तार

कोरबा। एसईसीएल में नौकरी लगवाने का झांसा देकर 9 साल पहले ठगी का मामला सामने आया है। शिकायत पर पुलिस ने मामले में अपराध दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।  प्राप्त जानकारी के अनुसार बांकीमोंगरा पानी टंकी के पास रहने वाला हरनारायण पटेल इलेक्ट्रॉनिक दुकान का संचालन करता है। शांतिनगर बांकी निवासी कमल भारद्वाज ने खुद को लैंको प्लांट में नौकरी करना बताकर हरनारायण से जान पहचान बढ़ाने लगा। उसने झांसा दिया कि लैंको और एसईसीएल में बहुत लोगों की नौकरी लगवाई है।  सितंबर 2011 में कमल ने हरनारायण के भाई रामाधार पटेल के सामने बताया था कि उसके पास एसईसीएल में नौकरी लगाने के लिए एक पट्टा है जिसके आधार पर नौकरी लगवा देगा। इसके एवज में 5 लाख रुपए देना होगा। कमल ने जमीन का पट्टा भी दिखाया जिस पर भरोसा कर 3 किश्त में 5 लाख रुपए दे दिया गया।

3 साल तक कमल ने नौकरी लगने का प्रोसेस होना बताया और कभी ढेलवाडीह तो कभी गेवरा तो कभी अनुपपुर में नौकरी लगवाने की बात कहता रहा। तीन साल बाद पैसा वापस मांगने पर बात फैलने का हवाला देकर इस पट्टा से नौकरी नहीं लगने व दूसरा पट्टा जुगाड़ करने का झांसा दिया । इसके बाद कमल ने अपना खेत-बार बेचकर पैसा वापस करने की बात कही। इस बीच पता चला कि कमल ने  आठ से दस लोगों से नौकरी के नाम पर ठगी की है। और 2 साल से घर से फरार था। इस बीच एकाएक मुलाकात होने पर जब हरनारायण ने कमल से अपना पैसा मांगा तो नहीं दूंगा और ज्यादा इधर-उधर करने पर एससी, एसटी एक्ट में फंसाने की धमकी दी। हरनारायण की रिपोर्ट पर बांकीमोंगरा पुलिस ने कमल के विरूद्ध धारा 420 भादवि के तहत जुर्म दर्ज कर विवेचना प्रारंभ की है।