मंकीपॉक्स की पहचान के लिए भारतीय प्राइवेट हेल्थ डिवाइस ने तैयार किया आरटी—पीसीआर किट

नई दिल्ली/रायपुर। विश्व के 20 से अधिक देशों में मंकीपॉक्स के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। डब्ल्यूएचओ के अनुसार मंकीपॉक्स के करीब 200 मामलों की अब तक पुष्टि हो गई है। भारतीय प्राइवेट हेल्थ डिवाइस कंपनी ट्रिविट्रान हेल्थकेयर ने मंकीपाक्स यानी आर्थोपॉक्सवायरस वायरस का पता लगाने के लिए एक रियल-टाइम आरटी-पीसीआर किट विकसित करने की घोषणा की है। ट्रिविट्रॉन हेल्थकेयर ने बताया है कि उनकी रिसर्च एंड डेवलपमेंट टीम ने मंकीपॉक्स वायरस का पता लगाने के लिए एक आरटी-पीसीआर आधारित किट विकसित की है। बताया जा रहा है कि ट्रिविट्रॉन की मंकीपॉक्स रियल-टाइम पीसीआर किट चार रंग फ्लोरोसेंस पर आधारित किट है। ये किट एक ट्यूब में चेचक और मंकीपॉक्स के बीच अंतर कर सकती है. कंपनी का कहना है कि इसमें एक घंटे का समय लगता है। चार जीन आरटी-पीसीआर किट में पहला व्यापक ऑर्थोपॉक्स ग्रुप में वायरस का पता लगाता है, दूसरा और तीसरा मंकीपॉक्स और चेचक वायरस को अलग करता है।