मानसून ने दी तय समय से पहले दस्तक, सात दिन पहले ही पूर्वी और मध्य भारत में बारिश की आहट

नई दिल्ली। इस वर्ष मानसून ने समय से पहले दस्तक दी है। दक्षिण पश्चिम मानसून अपने सामान्य समय से सात दिन पहले गुरुवार को मध्यप्रदेश में पहुंच गया। जबलपुर और शहडोल संभाग के जिलों के लिए आईएमडी ने ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। भोपाल के वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने बताया कि पिछले 24 घंटों में भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर सहित राज्य के कई हिस्सों में बारिश हुई है। साहा ने कहा, 'मानसून की उत्तर सीमा मध्यप्रदेश के बैतूल और मंडला जिलों से होकर गुजरती है। इसके साथ ही राज्य के कुछ हिस्सों में मानसून पहुंच गया। आमतौर पर, मानसून का आगमन मध्यप्रदेश में 17 जून को होता है। यह शायद पहली बार है कि यह सात दिन पहले ही आ गया है।' ऑरेंज और यलो अलर्ट शुक्रवार सुबह तक के लिए प्रभावी रहेगा।  मौसम विभाग ने बताया कि मानसून गुरुवार को ओडिशा पहुंच गया है। राज्य में अगले दो दिन के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है और अगले पांच दिनों तक भारी बारिश की चेतावनी दी गई है। आईएमडी के वैज्ञानिक आशीष कुमार ने कहा कि अनुमान है कि अगले 48 घंटे में मानसून बिहार में प्रवेश कर जाएगा। बिहार में येलो और ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में भारी बारिश के अनुमान के मद्देनजर राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के 15 दलों को विभिन्न हिस्सों में तैनात किया गया है। एनडीआरएफ के महानिदेशक एसएन प्रधान ने ट्वीट कर कहा कि चार दलों को रत्नागिरी, दो-दो दलों को मुंबई, सिंधुदुर्ग, पालघर, रायगढ़, ठाणे और एक दल कुर्ला (पूर्वी मुंबई उपनगर) में तैनात किया गया है। आईएमडी ने कहा, अगले 48 घंटों में मानसून पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों और बिहार में पहुंचेगा। अगले दो दिनों में यह पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कुछ इलाकों तक पहुंच सकता है। इसलिए विभाग ने दिल्ली में मानसून उम्मीद से पहले पहुंचने का अनुमान जताया है। बता दें कि सामान्य तौर पर दिल्ली में मानसून का आगमन जून अंत तक होता है।