छत्तीसगढ़ में बड़ी-बड़ी फाइनेंस कंपनियां अब किसानों के दरवाजे पर खड़ी : भूपेश बघेल

कोरबा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शुक्रवार को कोरबा जिले को 103 करोड़ 70 लाख रूपए के 121 विकास कार्यों की सौगात दी। अपने निवास कार्यालय से वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से भूपेश बघेल कोरबा शहर के टीपी नगर के राजीव आँडिटोरियम में आयोजित कार्यक्रम से जुड़े। उन्होंने इस दौरान जिले में 67 करोड़ 43 लाख रूपए के 93 नए विकास कार्यों के लिए शिलान्यास किया और 36 करोड़ 27 लाख रूपए से अधिक के 28 कार्यों को जिलेवासियों को लोकार्पित किया। मुख्यमंत्री ने इस दौरान राजस्व मंत्री  जयसिंह अग्रवाल की मांग पर गोपालपुर से बरबसपुर सड़क बनाने, सांसद  ज्योत्सना महंत की मांग पर दर्री बॅराज से गोपालपुर तक सड़क बनाने की स्वीकृति दी। सीएम बघेल ने कटघोरा विधायक पुरूषोत्तम कंवर की मांग पर कोरबा में विद्युत मण्डल का भण्डार गृह स्थापित करने को भी अपनी मंजूरी दी। इस दौरान मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि राज्य शासन की रीति-नीति और योजनाओं से ग्रामीण इलाकों तक समृद्धि और खुशहाली की नई बयार छा गई है। उन्होंने कहा कि अभी कुछ साल पहले तक, किसान कर्जा मांगने के लिए साहूकार के दरवाजे पर खड़ा रहता था।

सोसाइटियों में किसान डिफाल्टर हो जाता था। हर साल खाद-बीज की चिंता रहती थी। लेकिन आज बड़ी-बड़ी फाइनेंस कंपनियां किसानों के दरवाजे पर खड़ी रहती हैं। कोई ट्रेक्टर देने के लिए तैयार है, कोई उसे नई मोटरसाइकिल बेचना चाहता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज बड़ी-बड़ी कंपनियों को मालूम है कि शहर से ज्यादा पैसा छत्तीसगढ़ के गांवों में आ रहा है। इसीलिए वे भी शहर से गांव की तरफ दौड़ रही हैं। अभी लाकडाउन के समय जब पूरे देश में मंदी थी, तब सबसे ज्यादा ट्रैक्टर और मोटरसाइकिल छत्तीसगढ़ में ही बिक रही थी।

कार्यक्रम में वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीधे राजधानी से जिले के प्रभारी मंत्री और स्कूल शिक्षा मंत्री डाॅ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, कृषि मंत्री रवीन्द्र चौबे, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेड़िया सहित अपर मुख्य सचिव  सुब्रत साहू भी शामिल हुए। इस दौरान राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल, मध्य क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष और कटघोरा विधायक  पुरूषोत्तम कंवर, पाली-तानाखार के विधायक मोहित राम केरकेट्टा, रामपुर विधायक ननकी राम कंवर, महापौर  राजकिशोर प्रसाद, जिला पंचायत की अध्यक्ष शिवकला कंवर, नगर निगम के सभापति श्यामसुंदर सोनी सहित कलेक्टर रानू साहू, पुलिस कप्तान  अभिषेक मीणा, जिला पंचायत के सीईओ कुंदन कुमार, नगर निगम आयुक्त कुलदीप शर्मा, सहायक कलेक्टर अभिषेक शर्मा और अनेक जनप्रतिनिधि तथा गणमान्य नागरिक, शासकीय योजनाओं से लाभान्वित हितग्राही भी मौजूद रहे। इस दौरान कलेक्टर रानू साहू ने जिले में पिछले ढाई वर्षों में हुए विकास कार्यों का प्रशासकीय प्रतिवेदन भी प्रस्तुत किया।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना से आया बदलाव
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज छत्तीसगढ़ का किसान कर्ज के बारे में बात नहीं करता, बल्कि अपनी खेती और कैसे बढ़ाए, इस बारे में बात करता है। हर साल खेती का रकबा बढ़ रहा है। हर साल नये किसान भी बढ़ रहे हैं। यह बदलाव राजीव गांधी किसान न्याय योजना से आया है। उन्होंने कहा कि सिर्फ कोरबा जिले में पिछले साल 23 हजार किसानों को 67 करोड़ 62 लाख रुपए की आदान सहायता मिली थी। इस साल लगभग 30 हजार किसानों को 81 करोड़ 16 लाख रुपए की आदान सहायता दी जा रही है। खरीफ सीजन 2020-21 की पहली किस्त सभी के खातों में पहुंच भी गई है।

आज के बदलावों के पीछे नारी शक्ति
मुख्यमंत्री बघेल ने बताया कि आज वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई का बलिदान दिवस है। इस अवसर पर उन्होंने महारानी लक्ष्मीबाई को नारी शक्ति का प्रतीक बताते हुए श्रद्धांजलि दी और कहा कि छत्तीसगढ़ में आज के बदलावों के पीछे नारी शक्ति का हाथ है। नारी ही लक्ष्मी है, नारी ही दुर्गा है, नारी ही सरस्वती और अन्नपूर्णा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि घर की रसोई में भोजन बनाने से लेकर, खेतों में धान रोपने और गौठानों में जैविक खाद बनाने के काम छत्तीसगढ़ की नारियां ही कर रही हैं। उन्होंने प्रसन्नता जाहिर करते हुए कहा कि कोरबा में स्वसहायता समूहों की महिलाओं ने 32 हजार क्विंटल वर्मी खाद और 07 हजार क्विंटल सुपर कंपोस्ट का उत्पादन किया है। इस खाद का जिले के साढ़े 05 हजार किसान खेतों में फसलों के लिए उपयोग कर रहे हैं। जिसकी बदौलत खेत फिर उपजाऊ हो रहे हैं।