प.बंगाल में चुनाव परिणाम के बाद 9 लोगों की हत्या, दुकानों को लूटा,भाजपा कार्यालय में तोड़फोड़

कोलकाता। प.बंगाल विधानसभा चुनाव में टीएमसी की जीत के बाद राज्य में कई जगह हिंसा की घटनाएं हुई हैं। सोमवार को भाटपारा के घोषपारा सड़क पर कुछ दुकानों और भाजपा के दफ्तर में तोड़फोड़ की गई। भाजपा ने इन हमलों के पीछे तृणमूल कांग्रेस का हाथ बताया है। साथ ही पार्टी का आरोप है कि उनके कार्यकर्ताओं पर भी कई हमले किए गए हैं। इन वहीं, घटनाओं के सामने आने के बाद गृह मंत्रालय ने सोमवार को पश्चिम बंगाल सरकार से रिपोर्ट मांगी है। भाजपा का दावा है कि राज्य में टीएमसी की जीत के बाद कई जिलों में उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं पर हमले किए गए हैं और कई घरों में भी आग लगा दी गई है। इन हमलों को लेकर बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने सोमवार को राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाकात की। घोष ने कहा कि चुनाव के बाद बंगाल में शुरू हुई हिंसा में एक दिन में नौ लोगों की मौत हुई है। इस वजह से प्रदेश में डर का वातावरण बन गया है। उन्होंने तृणमूल कांग्रेस पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा,'सत्ताधारी पार्टी हाथ बांध कर बैठी है, पुलिस निष्क्रिय है। हम राज्यपाल के पास निवेदन लेकर आए थे, उन्होंने निवेदन स्वीकार किया और आश्वासन दिया है।' वहीं, भाटपारा में दुकानों में हुई लूट की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस के गुंडों ने इस घटना को अंजाम दिया है। एक शख्स ने कहा कि इलाके में कम से कम दस बम फेंके गए हैं। बंगाल में हमलों की विभिन्न रिपोर्ट्स के बाद गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया, गृह मंत्रालय ने पश्चिम बंगाल सरकार से चुनावी नतीजों के बाद विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओं पर हो रहे हमलों को लेकर रिपोर्ट मांगी है।' ममता बनर्जी ने अपने समर्थकों से शांति बनाए रखने की अपील की है।